चूरू:पीटने से लिवर डैमेज, इसी से हुई गणेश की मौत,जांच में आया- टीचर की पिटाई से 7वीं के छात्र के नाजुक अंगों पर आई थीं चोटें

0

चूरू टाइम्स,चूरू,21 अक्टूबर 2021। चूरू के मॉर्डन पब्लिक स्कूल में टीचर ने 7वीं के स्टूडेंट को बुरी तरह से पीटा था। इससे उसके नाजुक अंगों पर चोट आई और उसकी मौत हो गई। यह बात शिक्षा विभाग की जांच में भी सामने आई है। वहीं, पीएम रिपोर्ट के आधार पर बताया जा रहा है कि पिटाई की वजह से छात्र का लिवर डैमेज हो गया और इससे उसकी मौत हो गई।

स्कूल में जांच के लिए पहुंची शिक्षा विभाग की टीम।
स्कूल में जांच के लिए पहुंची शिक्षा विभाग की टीम।

बुधवार को विभागीय जांच के बाद इस घटना की रिपोर्ट जिला शिक्षा अधिकारी ने माध्यमिक शिक्षा निदेशालय बीकानेर को भेज दी है। वहां से मान्यता खत्म करने के प्रस्ताव राज्य सरकार को भेजे गए हैं। उम्मीद की जा रही है कि शुक्रवार को ही मान्यता समाप्त करने के आदेश जारी हो जाएंगे। साथ ही बच्चों को आसपास के स्कूल में शिफ्ट किया जाएगा। यह पहला मौका होगा जब किसी प्राइवेट स्कूल की मान्यता समाप्त करने की दिशा में इतनी तेज कार्रवाई की जा रही है।

परिवार ने आरोपी शिक्षक के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।
परिवार ने आरोपी शिक्षक के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

जिला शिक्षा अधिकारी ने अपनी रिपोर्ट प्रारंभिक शिक्षा निदेशालय के पास पहुंचा दी है। इस रिपोर्ट में साफ किया गया है कि 13 साल के बच्चे गणेश को बुरे तरीके से पीटा गया। इसके कारण उसके शरीर के संवेदनशील अंगों पर गंभीर चोट आई। इसी कारण उसकी मौत हो गई।

गणेश की मौत के बाद क्लास रूम में लटका ताला ।
गणेश की मौत के बाद क्लास रूम में लटका ताला ।

इसी के साथ पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट भी बीकानेर पहुंच गई है। इसी आधार पर एक नोट तैयार करके शिक्षा निदेशक कानाराम को जयपुर भेजी गई है। वहीं से ये रिपोर्ट अतिरिक्त मुख्य सचिव पी.के. गोयल के पास जाएगी। रिपोर्ट में स्कूल की मान्यता समाप्त करने की सिफारिश की गई है।

मृतक गणेश और उसकी मौत के बाद विलाप करती उसकी बहन।
मृतक गणेश और उसकी मौत के बाद विलाप करती उसकी बहन।

डोटासरा ने मांगी रिपोर्ट
ये स्कूल 8वीं तक का है। इसमें कुल 150 बच्चे पढ़ते हैं। मृतक गणेश की क्लास में 21 बच्चे पढ़ते थे। शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने निदेशक से इस स्कूल की रिपोर्ट मांगी थी। दोषी होने पर मान्यता रद्द करने की सिफारिश करने के निर्देश भी दिए गए। बताया जा रहा है कि शिक्षा मंत्री स्वयं इस घटना के बाद से काफी नाराज है। स्कूल की मान्यता जल्द से जल्द रद्द करने के आदेश दिए हैं।

आसपास के स्कूल में शिफ्ट होंगे स्टूडेंट
अगर स्कूल की मान्यता एक-दो दिन में रद्द हो जाती है तो स्कूल का सारा रिकॉर्ड शिक्षा विभाग जब्त करेगा। इसके बाद स्कूल के सभी स्टूडेंट्स की टीसी शिक्षा विभाग के अधिकारी काटकर पास के स्कूल में भर्ती कराएंगे। बाकी स्टूडेंट्स की पढ़ाई बाधित नहीं हो, इसके लिए भी अधिकारियों को जिम्मेदारी दी जाएगी।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें