चूरू में सबसे ज्यादा डेंगू पॉजीटिव,उप नेता प्रतिपक्ष बोले-जिस अस्पताल में सबसे ज्यादा डेंगू के मरीज,उसी में गंदगी से पनप रहे मच्छर,बेड पर बेडशीट तक नहीं

0
अस्पताल का निरीक्षण करते उप नेता प्रतिपक्ष राठौड़। - Dainik Bhaskar
अस्पताल का निरीक्षण करते उप नेता प्रतिपक्ष राठौड़।

चूरू टाइम्स,चूरू। मेडिकल कॉलेज से सम्बद्ध राजकीय डेडराज भरतिया अस्पताल का आज दोपहर उप नेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने निरीक्षण किया। राठौड़ ने डेंगू मरीजों के वार्ड का निरीक्षण करते हुए अस्पताल की व्यवस्थाओं के बारे में पूछा। वार्ड में बेड पर बेडशीट नहीं मिलने पर कॉलेज प्रिंसिपल व अस्पताल अधीक्षक को व्यवस्थाओं में सुधार करने के निर्देश दिए। राठौड़ ने कहा कि प्रदेश में डेंगू पॉजीटिव के सबसे अधिक रोगी चूरू में है। इसका सबसे बड़ा कारण है बारिश के बाद शहर में एकत्रित बरसाती व गंदा पानी हैं। नगर परिषद गंदे पानी की निकासी की ओर ध्यान नहीं दे रहा है। इस दौरान मेडिकल कॉलेज प्रिंसिपल डॉ. महेश मोहनलाल पुकार, अस्पताल अधीक्षक डॉ. शरद जैन, प्रधान दीपचंद राहड़, हरलाल सहारण, वासुदेव चावला, बसंत शर्मा, सुशील लाटा, हेम सिंह शेखावत आदि मौजूद थे।

एक छत के नीचे रखे सभी डेंगू रोगी
निरीक्षण के दौरान राठौड़ ने कहा कि अस्पताल में डेंगू के मरीजों को एक साथ एक छत के नीचे रखा जाए। देखभाल के लिए हर चार घंटे में नर्सिंग स्टाफ को आकर जांच करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि जिस अस्पताल में डेंगू के सबसे अधिक रोगी है,उसी अस्पताल में गंदगी के कारण सबसे अधिक मच्छर है। एलीजा टेस्ट में तीन-तीन दिन का समय लग रहा है। अस्पताल में कल से एलीजा टेस्ट कीट भी खत्म हो गए है। इसके लिए मुख्य सचिव को पत्र लिखकर अवगत करवाया हैं। अस्पताल के आईसीयू में भर्ती रोगी की तबीयत के लिए उन्होंने डॉ. दीपक चौधरी से जानकारी ली।

मरीज से हालचाल जानते राठौड़।
मरीज से हालचाल जानते राठौड़।

अस्पताल अधीक्षक बदलते ही निरीक्षण
अस्पताल अधीक्षक बदलते ही राठौड़ अस्पताल का निरीक्षण करने पहुंचे। जिस पर राठौड़ ने कहा कि ऐसी कोई बात नहीं है। अभी जिले में डेंगू का प्रकोप बहुत ज्यादा है इसलिए अस्पताल का निरीक्षण कर व्यवस्था जांची गई है।

इंस्टोल करवाई जाए प्लेटलेट मशीन
राठौड़ ने कहा कि अस्पताल में बायोलॉजी व बायोकेमेस्ट्री की महंगी मशीन होने के बाद भी अभी तक इंस्टोल नहीं किया गया है। अस्पताल के ब्लड बैंक में मौजूद सिंगल डोनर प्लेटलेट मशीन उपलब्ध है इसलिए जल्दी से जल्दी इसको इंस्टोल करवाने के निर्देश दिए गए। डेंगू रोगियों के उपचार के लिए पर्याप्त संख्या में चिकित्सक स्टाफ व अन्य संसाधन उपलबध नहीं है। जिला अस्पताल की रखवाली जूनियर रेजीडेंट के भरोसे है।

नगर परिषद नहीं करवा रहा फोगिंग
राठौड़ ने कहा कि बारिश के तुरंत बाद नगर परिषद पानी की निकासी करवाती तो यह नौबत नहीं आती। स्थिति बिगड़ने पर भी नगर परिषद ने शहर ना पानी निकासी करवाई और ना ही फोगिंग करवाई है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें