जिले की जनता को कब तक मिलती रहेगी लोलीपॉप,आमजन में रोष

0

चुरू टाइम्स न्यूज,चुरू

चूरू-तारानगर टूटी सड़क के लिए केंद्रीय मंत्री ने हाईवे बनाने व सीएम ने 16 करोड़ की घोषणा की, फिर भी नहीं सुधरी हालत

केंद्रीय मंत्री गडकरी ने मार्च 2017 में की थी नेशनल हाईवे बनाने की घोषणा, सीएम ने बजट में की थी घोषणा, अब तक दोनों अधूरी

जिला मुख्यालय को तारानगर से जोड़ने वाले रास्ते पर बीते एक दशक से अधिक समय से सड़क क्षतिग्रस्त होने के कारण वाहन चालकों के लिए परेशानी का कारण बना हुआ है। इस रास्ते पर कई जगह पर सड़क के नाम पर केवल एक पगडंडी नजर आती है, जिस पर बमुश्किल एक दुपहिया वाहन भी नहीं गुजर सकता।

चूरू से तारानगर तक की इस सड़क की लंबाई करीब 45 किमी है। इनमें चलकोई से तारानगर तक की सड़क ठीक-ठाक है, मगर चलकोई से चूरू तक करीब 27 किमी सड़क पूरी तरह से टूट चुकी है। 27 किमी रास्ते पर कहीं सड़क के नाम पर केवल अवशेष बचे हुए है तो कहीं सड़क की चौड़ाई ढ़ाई से तीन मीटर ही बची है। रोडवेज व निजी बसों को छोड़ दे, तो अन्य वाहनचालक बदहाल सड़क के कारण इस रास्ते से गुजरना तक पसंद नहीं करते तथा मजबूरी में आसपास की सम्पर्क सड़कों का सहारा लेते रहते है।
हाईवे बनता तो इन क्षेत्रों के लोगों को मिलता फायदा
इस रास्ते पर अगर नेशनल हाईवे का निर्माण होता, तो चूरू के अलावा चलकोई, तारानगर, साहवा, नोहर, फेफाना, सिरसा से आने वाले वाहन चालकों का सफर आसान हो जाता। इसके अलावा चूरू से श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़, सूरतगढ़ सहित पंजाब क्षेत्र में जाने वाले वाहन चालक नोहर से सीधे हाईवे से मिल जाते। उधर से आने वाले वाहन चालक हाईवे से नोहर तक आने के बाद इस नए हाईवे से होकर चूरू और आगे जयपुर-दिल्ली तक का सफर कर सकते थे।
केंद्रीय मंत्री ने सालासर आगमन पर की थी घोषणा

10 मार्च 2017 को सालासर आए केन्द्रीय सड़क परिवहन राजमार्ग मंत्री नीतिन गडकरी ने हरियाणा के सिरसा से वाया नोहर-तारानगर होते हुए चूरू तक नेशनल हाईवे बनाने की घोषणा की थी, जो आज तक अधूरी है। हाईवे निर्माण के लिए 142 लाख रुपए खर्च कर एक निजी कंपनी से 177 किमी लंबे रास्ता का सर्वे भी करवाया गया। कंपनी ने सर्वे की रिपोर्ट केंद्र सरकार के भूतल एवं राष्ट्रीय राजमार्ग मंत्रालय को सौंप दी तथा उन्होंने सितंबर 2018 में काम को यथावत स्थिति में छोड़ने के निर्देश दे दिए। उसके बाद से ही अब तक कोई प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ पाई है।
टूटी सड़क से परेशान लोग अक्सर सोशल मीडिया पर उड़ाते रहते हैं मजाक

चूरू से चलकोई तक की टूटी सड़क से परेशानी झेल रहे वाहन चालक इसे लेकर सोशल मीडिया पर भी अपनी भड़ास निकालते रहते हैं। इस सड़क मार्ग को लेकर सोशल मीडिया पर कई तरह के कार्टून तक चल रहे हैं। अलग-अलग तरह के कार्टून के माध्यम से लोग अपनी बेबसी के साथ ही सरकारी व प्रशासनिक अमले सहित राजनेताओं पर भी कटाक्ष करते नजर आते हैं।
सिरसा-नोहर-तारानगर-चूरू स्टेट
हाईवे होने के कारण राज्य सरकार ही इस पर प्राथमिकता से फैसला ले सकती है। नए नेशनल हाईवे के लिए चूरू-तारानगर सहित 177 किमी की डीपीआर कर सर्वे करवाया गया था। 600 करोड़ रुपए का बजट तथा साहवा, चूरू व तारानगर में बाईपास सड़क का भी प्रस्ताव था। अगर राज्य सरकार लिखित में दे तो नेशनल हाईवे बनाने की प्रक्रिया को फिर से आगे बढ़ाने का प्रयास किया जाएगा।

  • राहुल कस्वा, सांसद चूरू

बजट में सीएम ने की नवीनीकरण व चौड़ाईकरण की घोषणा
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी चूरू से तारानगर की सड़क के नवीनीकरण व चौड़ाईकरण की घोषणा की थी। करीब सात माह पूर्व फरवरी में पेश किए गए प्रदेश के बजट में सीएम ने चूरू से तारानगर सड़क के नवीनीकरण व इसकी चौड़ाई बढ़ाने के लिए 16 करोड़ रुपए के बजट का प्रावधान किया था, मगर इसकी प्रक्रिया भी अभी तक आगे नहीं बढ़ पाई है। हालांकि बजट में इसका निर्माण कार्य अगले वित्तीय वर्ष तक पूरा करने की घोषणा की गई थी।

चूरू क्षेत्र सहित देश,दुनिया की विश्वशनीय ओर प्रमाणिक खबरे जानने के लिए हमारे व्हाट्सएप्प ग्रुप से जुड़े।
चूरू क्षेत्र सहित देश,दुनिया की विश्वशनीय ओर प्रमाणिक खबरे जानने के लिए हमारे फेसबुक पेज से जुड़े।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें