रीट-2021:अब 30 सितंबर तक रेस्मा लागू, परीक्षा के बाद 44 हजार परीक्षार्थियों के नाम सार्वजनिक कर सकता है बोर्ड।

0
अब माध्यमिक शिक्षा बोर्ड और रीट से जुड़े संस्थानों में हड़ताल पर रोक रहेगी। - Dainik Bhaskar
अब माध्यमिक शिक्षा बोर्ड और रीट से जुड़े संस्थानों में हड़ताल पर रोक रहेगी।
  • परीक्षा 26 को, आज प्रवेश पत्र में गलतियां सुधार सकेंगे अभ्यर्थी

जयपुर। रीट-2021 का आयोजन 26 सितंबर को होना है। इससे पहले गृह विभाग ने 20 से 30 सितंबर तक राजस्थान एसेंशियल सर्विसेज मेंटेनेंस एक्ट (रेस्मा) लगाकर इसे अत्यावश्यक सेवा घोषित कर दिया है। सीएम अशोक गहलोत की मंजूरी के बाद गृह विभाग ने इसकी अधिसूचना जारी कर दी है। अब माध्यमिक शिक्षा बोर्ड और रीट से जुड़े संस्थानों में हड़ताल पर रोक रहेगी।

किसी भी तरह का कार्य बहिष्कार और हड़ताल गैर कानूनी मानी जाएगी। हड़ताल करने वालों को पुलिस बिना वारंट गिरफ्तार कर जेल भेज सकती है। इसी बीच, प्रवेश पत्रों में आ रही गलतियों को लेकर माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने अभ्यर्थियों को बड़ी राहत दी है। भाषा, लिंग और फोटो संबंधी गलती सुधार के लिए अभ्यर्थी रीट की वेबसाइट http://reetbser21. पर लॉगिन करके संशोधन कर सकेंगे।

खबर का असर- भाषा, लिंग और फोटो संबंधी सुधार कर सकेंगे, परीक्षा केंद्रों में बदलाव नहीं

रीट के प्रवेश पत्रों में गलतियों की भरमार है। इसके बाद बोर्ड अधिकारी हरकत में आए और उन्होंने अभ्यर्थियों को राहत देते हुए 21 सितंबर तक संशोधन का मौका दिया। बोर्ड अध्यक्ष डॉ. डीपी जारोली ने कहा- केवल भाषा, लिंग व फोटो संबंधी संशोधन के लिए एक और मौका दिया गया है। अन्य संशोधन परीक्षा के बाद 10 दिन के अंदर पूर्व की भांति करवा सकेंगे। परीक्षा केंद्र में किसी तरह का बदलाव नहीं होगा।

बोर्ड को शक- नकल गिरोह के इशारे में ऐसा संभव

रीट में भी नकल गिरोह की आशंका : 44 हजार से अधिक अभ्यर्थियों ने दो से ज्यादा आवेदन फाॅर्म भरे
अजमेर | 
हाल ही में नीट और एसआई भर्ती परीक्षा में बड़ी संख्या में नकल गिरोह के पकड़े जाने के बाद राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (रीट) 2021 में भी इसका साया पड़ने की आशंका है। राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने परीक्षा में बैठने वाले 44 हजार से अधिक ऐसे अभ्यर्थियों को चिह्नित किया है, जिन्होंने दो से अधिक फॉर्म भरे हैं। बोर्ड इनके नाम परीक्षा समाप्ति के बाद सार्वजनिक करेगा। बोर्ड मानकर चल रहा है कि संभव है नकल कराने वाले किसी संगठित गिरोह के इशारे पर अभ्यर्थियों ने 2 से अधिक आवेदन भरे हों।

हर फॉर्म में भाषा भी अलग-अलग भरी
बोर्ड अध्यक्ष डॉ. डीपी जारोली ने कहा- रीट के लिए मिले 25 लाख से अधिक अभ्यर्थियों के आवेदन में से 44 हजार से अधिक अभ्यर्थियों को चिह्नित किया गया है। इन अभ्यर्थियों ने 2 से ज्यादा तक आवेदन किए हैं। कुछ अभ्यर्थी ऐसे हैं, जिन्होंने 6 आवेदन तक किए हैं। एक अभ्यर्थी के 22 आवेदन सामने आए हैं। ऐसे अभ्यर्थी भी सामने आए हैं जिन्होंने अलग-अलग फार्म में अलग-अलग भाषाएं भरी हैं। एक में संस्कृत, दूसरे में अंग्रेजी भर रखी है। ऐसे अभ्यर्थियों को बोर्ड परीक्षा समाप्ति के बाद उजागर कर सकता है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें